Category: Hindi



puranapanda_srinivas-_1_.jpg
जीवन – यज्ञ है
जब ,
मैं – नहीं है
और सब – मैं है
तब ,
जीवन – यज्ञ है |

कैसे , कब , क्या, कहाँ – सब ,
सीखो जब
और
“मैंने किया” ,
मत बोलो
तब ,
जीवन – यज्ञ है |

इस राह पर पहला कदम
जब बोलो – सब साथ चलो ,
और चलो – सबको साथ
लेकर ,
खींचकर ,
पसीना तर हो जाओ ,
पर बोलो – मैं नहीं ,
तब ,
पथ तुम्हारा यज्ञ है ,
तब ,
जीवन – यज्ञ है |

सबके आंसू पोंछो ,
पर बोलो – मैं नहीं ,
सबकी भूख मिटाओ ,
पर बोलो – मैं नहीं ,
तब
जीवन – यज्ञ है |

भलों की करो भलाई ,
पर बोलो – मैं नहीं ,
बुरों की करो बुराई ,
और बोलो – सिर्फ – मैं ,
तब
जीवन – यज्ञ है |

-देवसुत

Photo By: Unknown
Submitted by: देवसुत
Submitted on: Mon Nov 19 2018 23:27:00 GMT+0530 (IST)
Category: Original
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at http://readit.abillionstories.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit

Advertisements

कलेजे का टुकड़ा ।
English Translation of Hindi Proverb: A piece of my heart
English equivalent proverb: Apple of my eye.

कलेजा मुँह में आना ।
English Translation of Hindi Proverb: Heart in mouth (signifying fear or anxiety).
English equivalent proverb: none

दो वक़्त की रोटी ।
English Translation of Hindi Proverb: 2 times a day, bread.
English equivalent proverb: Living hand to mouth.

पेट में चूहे कूदना ।
English Translation of Hindi Proverb: Mice jumping in the stomach (signifying hunger).
English Equivalent Proverb: none

पापड़ बेलना ।
English Translation of Hindi Proverb: Roll a “Papad” (no english word). Papad is made when dough is rolled very thin.
English Equivalent Proverb: none. But it signifies “working hard”

अपनी खिचड़ी अलग पकाना ।
English Translation of Hindi Proverb: Cooking ones own concoction separately.
English Equivalent Proverb: none

दूध की नदियाँ बहाना ।
English Translation of Hindi Proverb: Throwing so much milk as in a river. Signifies –
Excess.
English Equivalent proverb: none

आटे दाल का भाव पता लगना ।
English Translation of Hindi Proverb: To find out living costs.
English Equivalent proverb: none

आम के आम, गुठलियों के दाम ।
English Translation of Hindi Proverb: Not only mangoes, even the mango seeds gave returns.
English Equivalent proverb: none

कहाँ राजा भोज, कहाँ गंगू तेली ।
English Translation of Hindi Proverb: What is the level of King Bhoj and where comes from Gangu the vegetable oil maker. Signifying the levels of social strata between two people.
English Equivalent proverb: none

नाक में दम करना ।
English Translation of Hindi Proverb: To create a pain in the nose.
English equivalent proverb: A pain in the ass.

सर सलामत तो पगड़ी हज़ार ।
English Translation of Hindi Proverb: If the head is fine, a thousand turbans can be worn. Signifies the primacy of “survival”.
English equivalent proverb: Bend now to live another day. (Originally created by the author – all rights reserved)

एक हाथ से ताली नहीं बजती ।
English Translation of Hindi Proverb: One cannot clap with one hand.
English equivalent proverb: It takes two to tango.

ओखली में सर दिया तो मूसलों से क्या डरना ।
English Translation of Hindi Proverb: If the head has been put in the pounder (Okhli) voluntarily, then why fear the pounding.
English equivalent proverb: none

अंत भला तो सब भला ।
English Translation of Hindi Proverb: If the end is good, then all is good.
English equivalent proverb: none

ऊंची दूकान फीका पकवान ।
English Translation of Hindi Proverb: High shop, bad food. Signifying high cost as well as low quality.
English Equivalent proverb: none

राम राम जपना , पराया माल अपना ।
English Translation of Hindi Proverb: Take the name of God, but be a thief.
English equivalent proverb: Nearer the church, farther from God.

येड़ा बन के पेड़ा खाना ।
English Translation of Hindi Proverb: Become a fool and eat the pie.
English equivalent proverb: Act fooling if it means profit.

नाक काटना ।
English Translation of Hindi Proverb: cut the nose. Signifying: to insult.
English equivalent proverb: none

नाक पे मक्खी न बैठने देना ।
English Translation of Hindi Proverb: Not even to allow a fly to sit on the nose. Signifying to take utmost care.
English equivalent proverb: Take utmost care.

नाक रगड़ना ।
English Translation of Hindi Proverb: Rub the nose
English equivalent proverb: none. But it signifies ” to make to do the hard work”

नाक रखना ।
English Translation of Hindi Proverb: Keep the nose.
English equivalent proverb: none. But is signifies “to keep the dignity”

Photo By:
Submitted by:
Submitted on: Sun Jun 14 2015 17:45:33 GMT+0530 (IST)
Category: Folklore
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at http://readit.abillionstories.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit


अपने मुँह मियाँ मिट्ठू |
अर्थात: स्वयं अपनी प्रशंसा करना |
वाक्य: अच्छे आदमियों को अपने मुहँ मियाँ मिट्ठू बनना शोभा नहीं देता ।
English Translation of Hindi Proverb: own mouth uncle parrot
English Equivalent of Hindi Proverb: self-appreciation

अक्ल का चरने जाना |
अर्थात: समझ का अभाव होना
वाक्य: इतना भी समझ नहीं सके, क्या अक्ल चरने गयी थी ?
English Translation of Hindi Proverb: the brain has gone to eat grass
English Equivalent of Hindi Proverb: foolish

अपना हाथ जगन्नाथ |
अर्थात: स्वंय के द्वारा किया गया कार्य ही महत्वपूर्ण होता है.
English Translation of Hindi Proverb: my hand is god
English Equivalent of Hindi Proverb: god resides in one’s action

सौ सुनार की एक लुहार की |
अर्थात: एक महत्वपूर्ण कार्य कई अनर्गल कार्यों से ज्यादा सटीक होता है.
English Translation of Hindi Proverb: a hundred of jewellers is equalled by one of the ironworker
English Equivalent of Hindi Proverb: None

सौ चूहे खा के बिल्ली चली हज को |
अर्थात: धूर्त व्यक्ति द्वारा धिकावे का किया गया अच्छा कार्य
English Translation of Hindi Proverb: after eating a hundred rats, the cat went on a pilgrimage
English Equivalent of Hindi Proverb: None

अधजल गगरी छलकत जाय |
अर्थात: मुर्ख व्यक्ति ज्यादा चिल्लाता है, जबकि ज्ञानी शांत रहता है.
English Translation of Hindi Proverb: half empty pot, spills more.
English equivalent of HIndi Proverb: Empty cans make more noise.

Photo By:
Submitted by:
Submitted on: Sun Jun 14 2015 18:09:14 GMT+0530 (IST)
Category: Folklore
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at http://readit.abillionstories.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit


uc?export=download&id=1S-4HXR4pGW3JXkfIJaANGJMHR0jLd55l
बाधाएँ आती हैं आएँ
घिरें प्रलय की घोर घटाएँ,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,
निज हाथों में हँसते-हँसते,
आग लगाकर जलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

हास्य-रूदन में, तूफ़ानों में,
अगर असंख्यक बलिदानों में,
उद्यानों में, वीरानों में,
अपमानों में, सम्मानों में,
उन्नत मस्तक, उभरा सीना,
पीड़ाओं में पलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

उजियारे में, अंधकार में,
कल कहार में, बीच धार में,
घोर घृणा में, पूत प्यार में,
क्षणिक जीत में, दीर्घ हार में,
जीवन के शत-शत आकर्षक,
अरमानों को ढलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

सम्मुख फैला अगर ध्येय पथ,
प्रगति चिरंतन कैसा इति अब,
सुस्मित हर्षित कैसा श्रम श्लथ,
असफल, सफल समान मनोरथ,
सब कुछ देकर कुछ न मांगते,
पावस बनकर ढ़लना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

कुछ काँटों से सज्जित जीवन,
प्रखर प्यार से वंचित यौवन,
नीरवता से मुखरित मधुबन,
परहित अर्पित अपना तन-मन,
जीवन को शत-शत आहुति में,
जलना होगा, गलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

Photo By: Unknown
Submitted by: Atal Behari Vajpayee
Submitted on: 16-Aug-2018
Category: Non-Original work with acknowledgements
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at http://readit.abillionstories.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit


uc?export=download&id=1SXvksXYBqV44oRaMNYf7PL-Ro07ECSHP
दोहा :

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

चौपाई :

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

रामदूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी।।

कंचन बरन बिराज सुबेसा।
कानन कुंडल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।
कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन।
तेज प्रताप महा जग बन्दन।।

विद्यावान गुनी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।
नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।
कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।
लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

जुग सहस्र जोजन पर भानू।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रक्षक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै।।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।
महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

संकट तें हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिन के काज सकल तुम साजा।

और मनोरथ जो कोई लावै।
सोइ अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा।।

साधु-संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे।।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता।।

राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुम्हरे भजन राम को पावै।
जनम-जनम के दुख बिसरावै।।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।
जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

संकट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जै जै जै हनुमान गोसाईं।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।

जो सत बार पाठ कर कोई।
छूटहि बंदि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।।

दोहा :

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

Photo By:
Submitted by: Tulsidas
Submitted on:
Category: Folklore
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at http://readit.abillionstories.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit


प्यार की बातें बोलकर मुझे बहलाओ मत ,
अभी बोलो तुम आओगे कब ?
बच्चे रोते हैं, पर पूछते नहीं हैं तुमको ,
हँसकर मैं भी जवाब नहीं देती उनको ।
तुम्हारे पैसों से खाना बनता है, ख़ुशी नहीं ,
बिन बाप के बच्चे, बढ़ेंगे कैसे? पता नहीं !
मुझे पैसों की भरमार नहीं , ख़ुशी चाहिए ,
तुम्हारा हाथ, तुम्हारा साथ चाहिए ।
पैसे अब काफी हैं ज़िन्दगी काटने के लिए ,
बच्चों की देख-रेख और पढ़ाई के लिए ।
बाकी जो बचा, वह कुछ कर लेंगे इधर-उधर ,
अभी बोलो, तुम आओगे कब ?
-देवसुत

Photo By:
Submitted by: देवसुत
Submitted on: Mon Sep 05 2016 00:00:00 GMT+0530 (IST)
Category: Original
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at http://readit.abillionstories.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit


सड़क


पेट खाली पर सोने का तकिया ।
-हरेकृष्ण आचार्य

English Translation of Hindi Quote:
Stomach is empty but the pillow is of Gold.

Meaning:
Defines a person who cuts down on essentials but splurges on luxury.
हरेकृष्ण आचार्य

Photo By:
Submitted by: हरेकृष्ण आचार्य
Submitted on: Thu Mar 17 2016 11:52:18 GMT+0530 (IST)
Category: Original
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at https://abillionstories.wordpress.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit


ह्रदय का क्रंदन या प्रिये का वंदन
या करूँ शंखनाद
अंजुली भर भर अनादर मैं पी चूका
जहर तेज था मैं जी चूका

प्रिये अब तो समझ जाओ
अप्रिय बोल से जी ना जलाओ
मैं जो जला तो तुम्हे क्या सुख दे पाउँगा ?
अंदर के अनल में जल अंदर राख बन जाऊंगा

जो जल जायेगा मन
तन का मोल ना रह जायेगा
तन दिखेगा सुन्दर बस एक
खोल ही तो रह जाएगा

हम नही मिले लड़ने के लिए
अभी तो तवा पर आरजू भी ना हुई
पास रहकर प्रेम की की एक ग़ुफ़्तगू ना हुई

कभी आओ प्रिये अपनी मर्जी से
साथ रहकर देखो की इन झगड़ों में
कितना रस है ,क्योँ दूर हो
खुदगर्जी से।
Amar

Photo By: –
Submitted by: Amar
Submitted on: Wed Feb 17 2016 13:55:48 GMT+0530 (IST)
Category: Original
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at https://abillionstories.wordpress.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit


क्यों हैं यह रास्ते संकरे ?
क्यों हैं यहाँ बाबू अंधे ?
क्यों हैं यहाँ लोग प्यासे मरते ?
जब बाँध हैं पानी से फूटते ?

कहते हैं शहर में पानी कम है
पर फिर गगन-चुम्भी बनाते क्यों हैं ?
ढक देते हैं क्यों ज़मीं को सीमेंट से?
तालाबों को क्यों भर देते ?

पानी कम नहीं स्वार्थ ज़्यादा है
तालाब से ज़्यादा ज़मीन में फायदा है
फ्लैट बनाएंगे और पानी बेचेंगे
और हम?
फ्लैट में रहेंगे और प्यास से मरेंगे ।

-हरेकृष्ण आचार्य
Penned: 15-6-2010
हरेकृष्ण आचार्य

Photo By:
Submitted by: हरेकृष्ण आचार्य
Submitted on: Sat Mar 05 2016 09:02:50 GMT+0530 (IST)
Category: Original
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at https://abillionstories.wordpress.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit

%d bloggers like this: