puranapanda_srinivas-_1_.jpg
जीवन – यज्ञ है
जब ,
मैं – नहीं है
और सब – मैं है
तब ,
जीवन – यज्ञ है |

कैसे , कब , क्या, कहाँ – सब ,
सीखो जब
और
“मैंने किया” ,
मत बोलो
तब ,
जीवन – यज्ञ है |

इस राह पर पहला कदम
जब बोलो – सब साथ चलो ,
और चलो – सबको साथ
लेकर ,
खींचकर ,
पसीना तर हो जाओ ,
पर बोलो – मैं नहीं ,
तब ,
पथ तुम्हारा यज्ञ है ,
तब ,
जीवन – यज्ञ है |

सबके आंसू पोंछो ,
पर बोलो – मैं नहीं ,
सबकी भूख मिटाओ ,
पर बोलो – मैं नहीं ,
तब
जीवन – यज्ञ है |

भलों की करो भलाई ,
पर बोलो – मैं नहीं ,
बुरों की करो बुराई ,
और बोलो – सिर्फ – मैं ,
तब
जीवन – यज्ञ है |

-देवसुत

Photo By: Unknown
Submitted by: देवसुत
Submitted on: Mon Nov 19 2018 23:27:00 GMT+0530 (IST)
Category: Original
Language: हिन्दी/Hindi

– Read submissions at http://readit.abillionstories.com
– Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon or drawing at http://www.abillionstories.com/submit

Advertisements